Advertisement


Tu Nahin To Zindagi Mein

Arth (1982)

Movie: Arth
Year: 1982
Director: Mahesh Bhatt
Music: Jagjit Singh
Lyrics: Iftikhar Imam Siddiqi
Singers: Chitra Singh

 

तू नहीं तो ज़िन्दगी में और क्या रेह जाएगा
तू नहीं तो
तू नहीं तो ज़िन्दगी में और क्या रेह जाएगा
तू नहीं तो
दूर तक तन्हाइयों का
दूर तक तन्हाइयों का
सिलसिला रेह जाएगा
तू नहीं तो

दर्द की सारी तहें और सारे गुज़रे हादसे
दर्द की सारी तहें और सारे गुज़रे हादसे
सब धुंआ हो जायेंगे एक वाकिया रेह जाएगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में और क्या रेह जाएगा
तू नहीं तो

यूँ भी होगा वो मुझे दिल से भुला देगा मगर
यूँ भी होगा वो मुझे दिल से भुला देगा मगर
ये भी होगा खुद उसी में एक खला रेह जाएगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में और क्या रेह जाएगा
तू नहीं तो

दायरे इनकार के इकरार की सरहोशिया
दायरे इंकार के इकरार की सरहोशिया
ये अगर टूटे कभी तो फासला रेह जाएगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में और क्या रेह जाएगा
तू नहीं तो

tu nahin to zindagi mein aur kya reh jaega
tu nahin to
tu nahin to zindagi mein aur kya reh jaega
tu nahin to
dur tak tanhaiyon ka
dur tak tanhaiyon ka
silasila reh jaega
tu nahin to

dard ki saari tahen aur saare guzare haadase
dard ki saari tahen aur saare guzare haadase
sab dhuna ho jaayenge ek vaakiya reh jaega
tu nahin to zindagi mein aur kya reh jaega
tu nahin to

yun bhi hoga vo mujhe dil se bhula dega magar
yun bhi hoga vo mujhe dil se bhula dega magar
ye bhi hoga khud usi mein ek khala reh jaega
tu nahin to zindagi mein aur kya reh jaega
tu nahin to

daayare inakaar ke ikaraar ki sarahoshiya
daayare inkaar ke ikaraar ki sarahoshiya
ye agar tute kabhi to phaasala reh jaega
tu nahin to zindagi mein aur kya reh jaega
tu nahin to

Other songs from Arth (1982)


Advertisement


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
%d bloggers like this: