Advertisement


Pyar Ka Samay Kam Hai Jahan

Raampur Ka Lakshman (1972)

Movie: Raampur Ka Lakshman
Year: 1972
Director: Manmohan Desai
Music: R.D. Burman
Lyrics: Majrooh Sultanpuri
Singers: Mohammed Rafi, Lata Mangeshkar, Kishore Kumar

 

अरे प्यार का समय कम है जहां
लड़ते है लोग कैसे वहाँ
क्यूँ मेरे यार मैंने भी आज
क्या बात कहि दे ताली
प्यार का समय कम है जहां
लड़ते है लोग कैसे वहाँ
क्यूँ मेरे यार मैंने भी आज
क्या बात कहि दे ताली

जो भी करे प्यार मैं उसका यार
गलत मुझे ना समझना
मैं तो यहाँ आया हूँ मिलान के लिए
मैं सुबह शाम सबका ग़ुलाम
इतना मगर याद रखना
बुरा हूँ मैं बस दुश्मन के लिए
उल्फ़त के जो प्यासे हो तुम
चाहत का हूँ मैं भी सवाली
प्यार का समय कम है जहां
लड़ते है लोग कैसे वहाँ
क्यूँ मेरे यार मैंने भी आज
क्या बात कहि दे ताली

अभी ये समा है मेहेरबान
झूम के जी ले दीवाने
कैसी हार मस्तानी रात हैं
ज़िन्दगी का लेले मज़ा
फिर क्या हो कौन जाने
भाई मेरे कुछ ना तेरे हाथ हैं
दो चार पल लेहेरा के चल
ए ज़िन्दगी कब रुकने वाली
प्यार का समय कम है जहां
लड़ते है लोग कैसे वहाँ
क्यूँ मेरे यार मैंने भी आज
क्या बात कहि दे ताली

खेल हसीं आदत मेरी
शुक्र है ना मैं ना जानू
मैंने यही अब तक जाना नहीं
तुम भी मेरे
सबको अपना ही मानु
पर ये दिल सबका दीवाना नहीं
और जिसपे है दीवाना दिल
उसकी अदा सबसे निराली
प्यार का समय कम है जहां
लड़ते है लोग कैसे वहाँ
क्यूँ मेरे यार मैंने भी आज
क्या बात कहि दे ताली

are pyaar ka samay kam hai jahaan
ladate hai log kaise vahaan
kyoon mere yaar mainne bhi aaj
kya baat kahi de taali
pyaar ka samay kam hai jahaan
ladate hai log kaise vahaan
kyoon mere yaar mainne bhi aaj
kya baat kahi de taali

jo bhi kare pyaar main usaka yaar
galat mujhe na samajhana
main to yahaan aaya hoon milaan ke lie
main subah shaam sabaka gulaam
itana magar yaad rakhana
bura hoon main bas dushman ke lie
ulfat ke jo pyaase ho tum
chaahat ka hoon main bhi savaali
pyaar ka samay kam hai jahaan
ladate hai log kaise vahaan
kyoon mere yaar mainne bhi aaj
kya baat kahi de taali

abhi ye sama hai meherabaan
jhoom ke ji le divaane
kaisi haar mastaani raat hain
zindagi ka lele maza
phir kya ho kaun jaane
bhai mere kuchh na tere haath hain
do chaar pal lehera ke chal
e zindagi kab rukane vaali
pyaar ka samay kam hai jahaan
ladate hai log kaise vahaan
kyoon mere yaar mainne bhi aaj
kya baat kahi de taali

khel hasin aadat meri
shukr hai na main na jaanoo
mainne yahi ab tak jaana nahin
tum bhi mere
sabako apana hi maanu
par ye dil sabaka divaana nahin
aur jisape hai divaana dil
usaki ada sabase niraali
pyaar ka samay kam hai jahaan
ladate hai log kaise vahaan
kyoon mere yaar mainne bhi aaj
kya baat kahi de taali

Other songs from Raampur Ka Lakshman (1972)


Advertisement


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
%d bloggers like this: