Humein To Loot Liya

Al Hilal (1958)


Movie: Al Hilal
Year: 1958
Director: Akkoo
Music: Bulo C. Rani
Lyrics: Shevan
Singers: Ismail Azad Qawwal

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

नज़र में शोखियाँ और बचपना शरारत में
अदाएं देख के हम फस गए मोहब्बत में
हम अपनी जान से जाएंगे जिनकी उल्फत में
यकीन है की ना आएंगे वो ही मैय्यत में
खुदा सवाल करेगा अगर क़यामत में
तो हम भी केह देंगे हम लूट गए शराफत में

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

वहीँ वहीँ पे क़यामत हो वो जिधर जाएँ
झुकी झुकी हुई नज़रों से काम कर जाएँ
तड़पता छोड़ दे रास्ते में और गुज़र जाएँ
सितम तो ये है की दिल ले ले हुए मुकर जाएँ
समझ में कुछ नहीं आता की हम किधर जाएँ
यही इरादा है ये केह्के हम तो मर जाएँ

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

वफ़ा के नाम पे मारा है बेवफाओं ने
की डैम भी हम को ना लेने दिया जफ़ाओं ने
खुदा भुला दिया इन हुस्न के खुदाओं ने
मिटा के छोड़ दिया इश्क़ की खताओं ने
उड़ाया होश कभी ज़ुल्फ़ की हवाओं ने
हया-ए-नाज़ ने लुटा कभी अदाओं ने

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

हज़ार लूट गए नज़रों के इक इशारे पर
हज़ारों बेह गए तूफ़ान बनके धारे पर
ना इनके वादों का कुछ ठीक है ना बातों का
फ़साना होता है इनका हज़ार रातों का
बहुत हसीन है वैसे तो भोलापन इनका
भरा हुआ है मगर ज़ेहर से बदन इनका
ये जिसको काट ले पानी वो पि नहीं सकता
दवा तो क्या है दुआ से भी जी नहीं सकता
इन्ही के मारे हुए हम भी ज़माने में
है चार लफ्ज़ मोहब्बत के इस फ़साने में

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

ज़माना इनको समझाता है नेखवार मासूम
मगर ये केहते है क्या है किसीको क्या मालूम
इन्हे ना तीर ना तलवार की ज़रुरत है
शिकार करने को काफी निगाहें उल्फत है
हसीन चाल से पयेमाल करते है
नज़र से करते है बातें कमाल करते है
हर एक बात में मतलब हज़ार होते है
ये सीधे साधे बड़े होशियार होते है
खुदा बचाये हसीनों के तेज़ चालों से
पड़े किसी का भी पाला न हुस्न वालों से

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

हुस्न वालों में मोहब्बत के कमी होती है
चाहने वालों की तक़दीर बुरी होती है
इनकी बातों में बनावट ही बनावट है
शर्म आखों में निगाहों में लगावट देखि
आग पेहेले तो मोहब्बत की लगा देते है
अपने रुखसार का दीवाना बना देते है
दोस्ती करके फिर अनजान नज़र आते है
सच तो ये है की बेईमान नज़र आते है
मौत-ए-कम नहीं दुनिया में मोहब्बत इनकी
ज़िन्दगी होती बर्बाद बदौलत इनकी
दिन बहारों के गुज़रते है मगर मर मर के
लूट गए हम तो हसीनों पे भरोसा कर के

हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने
हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने, गोर गोर गालों ने

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Nazar mein shokiyaan aur bachpana sharaarat mein
Adaein dekh ke hum phas gaye mohabbat mein
Hum apni jaan se jaayenge jinki ulfat mein
Yakin hai ki na aayenge wo hi maiyyat mein
Khuda sawal karega agar qayamat mein
To hum bhi keh denge hum lut gaye sharaafat mein

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Wahin wahin pe qayamat ho wo jidhar jaayein
Jhuki jhuki hui nazaron se kaam kar jaayein
Tadapta chhod de raste mein aur guzar jaayein
Sitam to ye hai ki dil le le aur mukar jaayein
Samajh mein kuchh nahi aata ki hum kidhar jaayein
Yahi irada hai ye kehke hum to mar jaayein

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Wafa ke naam pe maara hai bewafaon ne
Ki dam bhi hum ko na lene diya jafaaon ne
Khuda bhula diya in husn ke khudaaon ne
Mitaa ke chhod diya ishq ki khataaon ne
Udaya hosh kabhi zulf ki havaon ne
Hayaa-e-naaz ne luta kabhi adaaon ne

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Hazaar lut gaye nazron ke ik ishaare par
Hazaaron beh gaye tufaan banke dhaare par
Na inke waadon ka kuchh thik hai na baaton ka
Fasana hota hai inka hazaar raaton ka
Bahut haseen hai waise to bholapan inka
Bharaa huaa hai magar zehar se badan inka
Ye jisko kaat le paani wo pi nahi sakta
Dava to kya hai dua se bhi ji nahi sakta
Inhi ke maare hue hum bhi hai zamaane mein
Hai chaar lafz mohabbat ke is fasane mein

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Zamaana inko samjhata hai nekhwar masoom
Magar ye kehte hai kya hai kisiko kya maloom
Inhe na tir na talvaar ki zarurat hai
Shikaar karne ko kaafi nigahein ulfat hai
Hasin chaal se dil payemal karte hai
Nazar se karte hai baate kamaal karte hai
Har ek baat mein matlab hazaar hote hai
Ye sidhe saadhe bade hoshiyaar hote hai
Khuda bachaye haseeno ki tez chaalon se
Pade kisi ka bhi pala na husn waalon se

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Husn waalo mein mohabbat ki kami hoti hai
Chaahne waalon ki taqdir buri hoti hai
Inki baaton mein banawat hi banawat dekhi
Sharm aankho mein nigahon mein lagawat dekhi
Aag pehele to mohabbat ki lagaa dete hai
Apne rukhsaar ka deewana bana dete hai
Dosti kar ke phir anjaan nazar aate hai
Sach to ye hai ki beimaan nazar aate hai
Maute kam nahi duniya mein mohabbat inki
Zindagi hoti barbaad badaulat inki
Din baharon ke guzarte hai magar mar mar ke
Lut gaye hum to haseeno pe bharosa kar ke

Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne
Humein to lut liya mil ke husn waalon ne
Kaale kaale baalon ne, gore gore gaalo ne

Other songs from Al Hilal (1958)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
%d bloggers like this: