Bekhayali

Kabir Singh (2019)

Movie: Kabir Singh
Year: 2019
Director: Sandeep Vanga
Music: Sachet-Parampara
Lyrics: Irshad Kamil
Singers: Arijit Singh

 

बेखयाली में भी तेरा ही ख्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये
तेरी नज़दीकियों की ख़ुशी बेहिसाब थी
हिस्से में फासले भी तेरे बेमिसाल आये
मैं जो तुमसे दूर हूँ
क्यूँ दूर मैं रहूँ?
तेरा गुरुर हूँ
आ तू फासला मिटा
तू ख्वाब सा मिला
क्यूँ ख्वाब तोड़ दूँ?

बेखयाली में भी तेरा ही ख्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये
थोड़ा सा मैं खफा हो गया अपने आप से
थोड़ा सा तुझपे भी बेवजह ही मलाल आये
है ये तड़पन, है ये उलझन
कैसे जी लूँ बिना तेरे
मेरी अब सब से है अनबन
बनते क्यूँ ये खुदा मेरे ओ ओ हम्म हम्म…
ये जो लोग-बाग हैं
जंगल की आग हैं
क्यूँ आग में जलूँ?
ये नाकाम प्यार में
खुश हैं ये हार में
इन जैसा क्यूँ बनूँ?

रातें देंगी बता
नींदों में तेरी ही बात है
भूलूं कैसे तुझे
तू तो ख्यालों में साथ है
बेखयाली में भी तेरा ही ख्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये

नज़रों के आगे हर एक मंजर
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़ेहेर की तरह उतर रहा है
नज़रों के आगे हर एक मंजर
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़ेहेर की तरह उतर रहा है

आ ज़माने आज़मा ले रूठता नहीं
फासलों से हौसला ये टूटता नहीं
ना है वो बेवफा और ना मैं हूँ बेवफा
वो मेरी आदतों की तरह छूटता नहीं

bekhayaali mein bhi tera hi khyaal aaye
kyoon bichhadana hai zaroori ye savaal aaye
teri nazadikiyon ki khushi behisaab thi
hisse mein phaasale bhi tere bemisaal aaye
main jo tumase door hoon
kyoon door main rahoon?
tera gurur hoon
aa too phaasala mita
too khvaab sa mila
kyoon khvaab tod doon?

bekhayaali mein bhi tera hi khyaal aaye
kyoon bichhadana hai zaroori ye savaal aaye
thoda sa main khapha ho gaya apane aap se
thoda sa tujhape bhi bevajah hi malaal aaye
hai ye tadapan, hai ye ulajhan
kaise ji loon bina tere
meri ab sab se hai anaban
banate kyoon ye khuda mere o o hmm hmm…
ye jo log-baag hain
jangal ki aag hain
kyoon aag mein jaloon?
ye naakaam pyaar mein
khush hain ye haar mein
in jaisa kyoon banoon?

raaten dengi bata
neendon mein teri hi baat hai
bhooloon kaise tujhe
too to khyaalon mein saath hai
bekhayaali mein bhi tera hi khyaal aaye
kyoon bichhadana hai zaroori ye savaal aaye

nazaron ke aage har ek manjar
ret ki tarah bikhar raha hai
dard tumhaara badan mein mere
zeher ki tarah utar raha hai
nazaron ke aage har ek manjar
ret ki tarah bikhar raha hai
dard tumhaara badan mein mere
zeher ki tarah utar raha hai

aa zamaane aazama le roothata nahin
phaasalon se hausala ye tootata nahin
na hai vo bevapha aur na main hoon bevapha
vo meri aadaton ki tarah chhootata nahin

Other songs from Kabir Singh (2019)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
%d bloggers like this: